समाचार और लेख

archives

saif

swach bharat

डॉ. ए. कंदन

Staff Image
Dr. A. Kandan
ई-मेल
दूरभाष सं.
080-2351-1982
फैक्‍स
080-2341-1961
व्‍यावसायिक अनुभव
15 वर्ष
एम.एससी., पीएच.डी. (कृषि कीटविज्ञान)
एम. एससी. (कृषि), पीएच. डी. (पादप विकृति विज्ञान)
होमोप्‍टेरन नाशीजीवों के परभक्षियों के लिए बहु उत्‍पादन तकनीकों के विकास पर कार्यरत।
कीट वाहकों (इनसेक्टई वेक्टवर्स) का जैविक नियंत्रण, आणविक आधारित खोज और लक्षणवर्णन।
प्रशिक्षण
अंतर्राष्ट्री य
संयुक्तद राष्ट्री के कृषि विभाग (यूएसडीए)-पशुपालन और पादप स्वा स्य््र निरीक्षण सेवा (एपीएचआईएस), यूएसए और राष्ट्री य पादप स्वाणस्य् क प्रबंधन संस्था‍न (एनआईपीएचएम), भारत द्वारा दिनांक 2-6 सितंबर, 2013 के दौरान एनआईपीएचएम, हैदराबाद में संयुक्त‍ रूप से आयोजित अंतर्राष्ट्री य नाशीजीव जोखिम विश्ले षण प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया।
राष्ट्री य
''भाकृअनुप की गैर-एआरएस शाखा के लिए नव नियुक्तज वरिष्ठा/प्रधान वैज्ञानिकों के लिए कृषि अनुसंधान प्रबंधन'' पर दिनांक 5-18 जून, 2012 के दौरान एनएएआरएम, हैदराबाद में पुनश्चयर्या पाठ्यक्रम में सहभागिता की।
''पादप कार्यात्मतक जीनोमिक और फसल सुधार के लिए एक टूल के रूप में आरएनए-इंटरफ्रेंस'' पर भाकृअनुप-राष्ट्री य पादप जैव प्रौद्योगिकी केंद्र, पूसा परिसर, नई दिल्लीन द्वारा दिनांक 6-26 मई, 2015 के दौरान आयोजित एवं भाकृअनुप द्वारा प्रायोजित 21 दिवसीय ग्रीष्मलकालीन शिविर में भाग लिया।
संक्षिप्‍त उपलब्धियां
विभिन्न आणविक टूल्सव, जैसे कि पीसीआर एवं लूप आधारित आइसोथर्मल एम्पबलीफिकेशन ऐस्से् का प्रयोग कर कवक और जीवाणविक रोगों, यानी बाइपोलेरिस ओरिजा, बाइपोलेरिस सोरघिकोला, अल्ट रनेरिया पाडविकी, कोलिटोट्रिचुम कैप्सिसी, गेंडोडर्मा प्रजा. के लक्षणवर्णन के आधार पर आणविक आधारित अन्वेरषण एवं आनुवंशिक विविधता अध्यलयन।
मानव और माउस इम्यू न कोशिकाओं, यानी बोन मैरो व्युशत्पाजदित डेंड्रिटिक कोशिकाओं पर एंटी-इनफ्लेमेट्री औषधीय फाइटोकंपाउंडों का कार्यात्मनक जीनोमिक (माइक्रोऐरे एवं माइक्रो आरएनए ऐरे), प्रोटियोमिक्सं (2-डायमेंशन्लन जेल इलेक्ट्रोमफोरेसिस) और सिस्टनम बायोलॉजी का अध्य्यन।
विशेषीकृत सेल लाइन बायोरिएक्टकरों का प्रयोग कर विभिन्नक रोगजनक जीनों के विरूद्ध मोनोक्लोतनल एवं पॉलीक्लोंनल एंटीबॉडीज का सृजन और उन्न यन।
इन विट्रो (प्रयोगशाला) और इन विवो (पशुधन) दोनों स्थितियों में इम्यूिन से संबंधित जीनों की क्लोिनिंग एवं अनुक्रमण और मूल्यांाकन।
विभिन्नय कवक और जीवाणविक जैवनियंत्रण अभिकारकों की प्रभावाकारिता तथा हरितगृह और प्रक्षेत्र स्थितियों दोनों के तहत पादप रोगजनक कवक, जीवाणविक और वायरल पैथोजन्सं की अभिक्रियाओं की कार्यपद्धति का अध्य यन।
अभिज्ञान
भारतीय पादप संरक्षण जर्नल, हैदराबाद में प्रकाशित सर्वश्रेष्ठी शोध पत्र के लिए वर्ष 2014 का "श्रीमती कावुरी सारदा स्मृ ति पुरस्का र''।
विशेषज्ञ सदस्यी - वर्ष 2012 के दौरान आर एंड डी प्रस्ता वों का मूल्यां कन, नोवोड बोर्ड, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार।
''पादपों, रोगजनकों और लोगों - मानवों के हित में पादप विकृति विज्ञान में चुनौतियां'' पर नास्का परिसर, नई दिल्लीो, भारत में आयोजित 6वें आईपीएस अंतर्राष्ट्री य सम्मेकलन के दौरान दिनांक 23-27 फरवरी, 2016 को सर्वश्रेष्ठर पोस्ट र पुरस्का र प्राप्ति किया।
अनुप्रयुक्तप जैवप्रौद्योगिकी सोसायटी से वर्ष 2013 के दौरान अध्येृतावृत्ति पुरस्कारर।
वरिष्ठा आविष्का रक के रूप में, राष्ट्री य प्रौद्योगिकी कृषि जैव प्रौद्योगिकी विज्ञान (एनएसटीपी-एबी), ताइवान के तहत ''यूज ऑफ सबनिट कॉम्बिनेशनल वैक्सी्न्सष अगेंस्टौ पोरसाइन सिरकोवायरस 2'' के लिए और राष्ट्रीकय विज्ञान परिषद, ताईवान के तहत ''एप्लीसकेशन ऑफ केमोकाइन रेन्टेवस विद ट्यूमर असोसिएटेड एंटीजन एट स्पेिसिफिक टाइम फ्रेम फॉर रिग्रेशन ऑफ मेटास्टेनटिक ट्यूमर्स'' के लिए वर्ष 2012 के दौरान बौद्धिक संपदा अधिकार, ताइवान से दो अंतर्राष्ट्री य पेटेंट प्राप्तए किए।
वर्ष 2008-10 के दौरान अकेडेमिया सिनिका पोस्ट2 डॉक्टोटरल रिसर्च फेलोशिप पुरस्कासर, अकेडेमिया सिनिका, ताइपेई, ताइवान।
वर्ष 2005-2008 के दौरान राष्ट्री य विज्ञान परिषद से पोस्टट डॉक्टोररल अनुसंधान अध्येितावृ‍त्ति पुरस्कायर।
वर्ष 2007-2010 के दौरान अकेडेमिया सिनिका, ताइपेई, ताइवान में चार सर्वश्रेष्ठन पोस्टिर पुरस्कायर।
वर्ष 2001-2013 के दौरान पीएच. डी. अध्य्यन के लिए भाकृअनुप-रोपण फसल - छात्र अनुसंधान अध्येततावृत्ति पुरस्कारर, तमिलनाडु कृषि विश्वटविद्यालय, कोयंबतूर, भारत।
वर्ष 2000 के दौरान एम. एससी. अध्य‍यन के लिए पादप विकृति विज्ञान में सर्वश्रेष्ठष छात्र के लिए डॉ. पी. नारायणस्वासमी स्वअर्ण पदक पुरस्काकर, तमिलनाडु कृषि विश्वछविद्यालय, कोयंबतूर, भारत।
प्रकाशन
40
चयनित प्रकाशन
कंदन, ए., अख्तर, जे., सिंह बी., पाल डी., चंद डी., अग्रवाल पी. सी. और दुबे एस. सी. (2016)। एप्लीटकेशन ऑफ लूप-मिडिएटेड आइसोथर्मल एम्ली.स्वफिकेशन (लैम्पि) ऐस्सेर फॉर रैपिड एंड सेंसिटिव डिटेक्शशन ऑफ फंगल पैथोजन, कोलेटोट्रिचम कैप्सिसी इन कैप्सिसी ऐन्नऐयुम। जर्नल ऑफ एनवायरनमेंटल बायोलॉजी 37 (6) : 1355-1360.
कंदन, ए., अख्तर, जे., सिंह बी., पाल डी., चंद डी., राजकुमार एस. और अग्रवाल पी. सी. (2016)। जेनेटिक डायवर्सिटी एनालिसिस ऑफ फंगल पैथोजन बाइपोलेरिस सोरघिकोला इनफेक्टिंग सोरघुम बाइक्ल्र इन इंडिया। जर्नल ऑफ़ एनवायरनमेंटल बायोलॉजी 37 (6) : 1323-1330.
अंजू, जे., कंदन, ए. और पाल डी. (2016). मॉलीक्यूटलर आइडेंटिफिकेशन एंड एंटीबायोटिक कंट्रोल ऑफ बैक्टी रियल कंटामिनेशन इन कल्चरर्स ऑफ जिंजर (Zingiber officinale)। जर्नल ऑफ़ हॉर्टिकल्चरल साइंस एंड बायोटेक्नोलॉजी 91 (2) : 122-128.
अख्तर जे, सिंह बी, कंदन ए, चंद डी, गुप्ता वी और अग्रवाल पीसी (2016)। डिटेक्श0न ऑफ डेंड्रिफ़ियॉन पेनिसिलेटुम (कॉर्डा) Fr. इन ओपियम पॉपी सीड्स। इंडियन जर्नल ऑफ प्लांट प्रोटेक्शन 44 (5) : 1-2.
कंदन, ए., अख्तर, जे., सिंह, बी., दीक्षित, डी., चंद, डी., रॉय, ए., राजकुमार, एस. और अग्रवाल, पी. सी. (2015)। मॉलीक्यूवलर डायवर्सिटी ऑफ बाइपोलेरिस ओरिजा इनफेटिंग ओरिजा सतिवा इन इंडिया। फाइटोपारासिटिका 43 (1) : 5-14.
कंदन, ए., अख्तर, जे., सिंह, बी., देव, यू., गोले, आर., चंद, डी., रॉय, ए., राजकुमार, एस. और अग्रवाल, पी. सी. (2014)। जेनेटिक डायवर्सिटी एनालिसिस ऑफ अल्टरनेरिया अल्टरनेटा आयसोलेट्स इनफेक्टिंग डिफरेंट क्रॉप्सस यूजिंग यूआरपी एंड आईएसएसआर मार्कर्स। इंडियन जर्नल ऑफ प्लांट प्रोटेक्शन 42 (3) : 229-236.
कंदन, ए., वांग, पी. एच., यिन, एस. वाई. और यांग, एन. एस. (2014)। ट्यूमर असोसिएटेड एंटीजेन/आईएल-21-ट्रांसड्यूस्डय डेंड्रिटिक सेल वैक्सी न्स) इनहांस इम्यूेनिटी एंड इनहिबिट इम्यूेनोसुप्रेसिव सेल्सर इन मेटास्टेयटिक मेलानोमा। जीन थेरेपी 21 (5) : 457-467.
कंदन, ए., अख्तर, जे., सिंह, बी., दीक्षित, डी., चंद, डी., अग्रवाल, पी. सी., रॉय, ए. और राजकुमार, एस. (2013)। पॉप्यूेलेशन जेनेटिक डायवर्सिटी एनालिसिस ऑफ बाइपोलेरिस ओरिजा फंगी इनफेक्टिंग ओरिजा सतिवा इन इंडिया यूजिंग यूआरपी मार्कर्स। इकोसन 7 (3 और 4) : 123-128.
कंदन, ए (2013)। मॉलीक्यूटलर एंड फिनोटाइपिक करेक्ट्रा इजेशन ऑफ गनोडर्मा ल्यूसिडम इनफेक्टिंग पाल्स् इ एंड फॉरेस्टन ट्रीज इन इंडिया। वेजिटोस, 26 (2) : 344-352.
यिन, एस. वाई., वांग, डब्ल्यू. एच., वांग, पी. एच., कंदन, ए., ह्वांग, पी. आई., वू, एच. एम. एम. और यांग, एन. एस. 2010. स्टिमुलेट्री इफेक्टी ऑफ इचिनेशिया परपुरिया एक्सेट्रेक्टक ऑन द् ट्रैफिकिंग एक्टिविटी ऑफ माउस डेंडिट्रिक्स1 सेल्स0 : रिवील्डि बाइ जीनोमिक एंड प्रोटियोमिक एनालिसिस। बीएमसी जीनोमिक्स 11 : 612-623.
कंदन, ए और यांग, एन. एस. 2010. एंटी-इनफ्लेमेट्री प्लांटट नेचुरल प्रोडक्ट्स् फॉर कैंसर थेरेपी। प्लांटा मेडिका 76 : 1103-1117.
कंदन, ए., यू., एच. एच., लैन, सी. डब्ल्यू., वांग, पी. एच., चेन, वाई. एच. एच., चेन, एच. एम., यागिता, एच. और यांग, एन. एस. 2009. ट्रांसजेनिक एक्स्प्रेशन ऑफ ह्युमन जीपी 100 एंड रेन्टेास एट स्पेोसिफिक टाइम प्वां1इट्स फॉर सुप्रेशन ऑफ मेलानोमा। जीन थेरेपी 16 : 1329-1339.
कंदन, ए., कुओ, टी. वाई., लैन, सी. डब्ल्यू., यू., एच. एच. एच., वांग, पी. एच., चेन, वाई. एस., चेन, जी. एच. और यांग, एन. एस. 2009. प्रोटे‍क्टिव इम्युिनिटी अगेंस्टज पोरसाइन सिरकोवायरस 2 इन माइस इन्ड्यू स्डो बाइ ए जीन-बेस्ड् कंबिनेशन वैक्सीेन। जर्नल ऑफ जीन मेडिसिन 11 : 288-301.
कंदन, ए, रादजाकोमारे, आर., रामनाथन, ए., रघुचंदर, टी., बालासुब्रमण्यन, पी. और बालासुब्रामनियन, पी. और सामियापन्नो, आर. 2009. मॉलीक्यूंलर बायोलॉजी ऑफ गेनोडर्मा पैथोजिनिसिटी एंड डायग्नो सिस इन कोकोनट सीडलिग्जन। फोलिया माइक्रोबायोलोजिका 54 : 147-152.
कंदन, ए., रामनाथन, ए., रघुचंदर, टी., बालासुब्रमण्यन, पी. और सामियप्पन, आर. 2010. डिवलपमेंट एंड इवेलुवेशन ऑफ एन एंजाइम-लिंक्डो इम्यूकनोसोर्बेन्टद ऐस्से4 (ईलीसा) एंड डॉट इम्यू्नोबाइंडिंग ऐस्सेव (डीआईबीए) फॉर द् डिटेक्शलन ऑफ गेनोडर्मा इनफेक्टिंग पाल्स्ीस । आर्चिव्सफ ऑफ फाइटोपैथोलॉजी एंड प्लांाट प्रोटेक्शोन, 43 (15): 1473-1484.